डिजिटल आदान-प्रदान की दिशा में नयी क्रांति लाएगा भीम एप

सत्ता संभालते ही देश के लिए सकारात्मक दिशा में कदम उठाने में लगे हुए पीएम मोदी ने  कालेधन पर सर्जिकल स्ट्राइक करते हुए नोटबंदी का कदम उठाया। नोटबंदी के बाद भारत को नक़दी रहित अर्थव्यवस्था की तरफ मोड़ने  बनाने की कोशिश में लगे प्रधानमंत्री मोदी ने डिजिटल पेमेंटिंग के लिए बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर के नाम पर भीम एप्प लॉन्च किया। BHIM का अर्थ है भारत इंटरफेस फॉर मनी पेमेंट प्लेटफॉर्म है। यह ऐप यूपीआई के जरिए तुरंत पेमेंट की सुविधा मुहैया करवाता है जो लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित होने वाला है। ये ऐप लोगों को तो सुविधा देगा ही साथ ही डिजिटल प्लेटफॉर्म से लोगों को बिना किसी परेशानी से जोड़ने में कामयाब होगा।

भीम एप्प से पहले ही बाजार में कई सारे ऑनलाइन ट्रांजेक्शन वाले एप्प मौजूद थे, लेकिन उन सब के मुकाबले भीप ऐप कई तरह से अलग है। इसमें आपको किसी भी तरह की ज्यादा जानकारी देने की आवश्यकता नहीं है। इस ऐप की सबसे अच्छी बात यह है कि इसे इस्तेमाल करने के लिए स्मार्टफोन और इंटरनेट की बाध्यता अनिवार्य नहीं है। साधारण फोन से भी इसे आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रधानमंत्री जो भी करते है सबकुछ सोच समझकर करते हैं इसलिए उन्होंने इस एप्प को लॉन्च करने से पहले दर्जनभर लोगों ने इस पर दिन-रात मेहनत की है ताकि जब लोगों के मोबाइल फोन में ये ऐप काम करें तो पूरी तरह से सेफ हो। साथ ही, सिक्यॉरिटी लूपहोल्स खत्म कर दिए जाएं। इस काम में एनपीसीआई ने इस एप को सिक्योरिटी मुहैया कराने वाली सायबर सिक्यॉरिटी कंपनी लूसिडियस टेक की टीम ने दिन-रात की मेहनत के बाद बनाया है।

55

इस एप्प की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि लॉन्चिग के चंद घंटो बाद ही भीम इंडिया में गूगल प्ले स्टोर में वॉ‌ट्सएप, फेसबुक और फेसबुक मेसेंजर जैसे ऐप्स को पीछे छोड़ता हुआ ‘टॉप फ्री ऐप्स’ की लिस्ट में आ गया था। भीम ऐप से पहले ही बाजार में कई सारे ऑनलाइन ट्रांजेक्शन वाले एप्प मौजूद थे, लेकिन उन सब के मुकाबले भीप ऐप कई तरह से अलग है। इसमें आपको किसी भी तरह की ज्यादा जानकारी देने की आवश्यकता नहीं है। इस ऐप की सबसे अच्छी बात यह है कि इसे इस्तेमाल करने के लिए स्मार्टफोन और इंटरनेट की बाध्यता अनिवार्य नहीं है। साधारण फोन से भी इसे आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है।

यह एप्प फोन नंबर के जरिए आपके बैंक खाते को लिंक करता है, अगर आप दूसरा कोई बैंक खाता इससे लिंक करना चाहते हैं तो वो भी कर सकते हैं। एकबार में एक ही खाता इस ऐप से लिंक किया जा सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस ऐप के लॉन्च के मौके पर कहा था कि बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर ने भारतीय अर्थशास्त्र की रूपरेखा तैयार की थी, इसलिए इस ऐप का नाम उन्हीं के नाम पर रखा गया है। तकनीकी तौर पर भी इसे परिभाषित किया गया है और BHIM को ‘भारत इंटरफेस फॉर मनी’ कहा गया है। गूगल के प्ले स्टोर ने भीम ऐप को 4.1 रेटिंग दी है। इस रेटिंग के साथ यह ऐप टॉप ऐप्स में अपनी जगह बनाए हुए है।

कहना न होगा कि भीम एप्प भारत में नक़दी रहित अर्थव्यवस्था की दिशा में अत्यंत महत्वपूर्ण कदम सिद्ध हो सकता है। इसकी सरलता, सहजता और बिना इन्टरनेट व स्मार्ट फोन के उपयोग की सुगमता इसे क्रांतिकारी बना सकती हैं। ये सुविधा ग्रामीण और इंटरनेट आदि से अपरिचित लोगों के लिए बेहद उपयोगी सिद्ध होगी। यह दिखाता है कि मोदी सरकार नक़दी रहित अर्थव्यवस्था की दिशा में बेहद गंभीर है और इसके लिए लगातार कदम बढ़ा रही है। सरकार की इस गंभीरता को देखते हुए उम्मीद की जा सकती है कि देश जल्द-ही नज़दी रहित अर्थव्यवस्था की राह पर रफ़्तार पकड़ लेगा।

(लेखिका पेशे से पत्रकार हैं। ये उनके निजी विचार हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Name *