शुभांगी उपाध्याय

महारानी लक्ष्मीबाई : क्रांति की अग्निशिखा

रानी साहिब ने युद्ध से पूर्व अपने सैनिकों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा- ‘‘हे वीर सैनिकों! हम दुश्मन से भले ही सैन्य बल में कम हैं, परन्तु हमारा आत्मबल उनसे कोई गुणा अधिक है।