ई-शासन

ई-शासन: मोदी सरकार में बढ़ा पारदर्शिता, सुगमता और संवाद का अवसर

किसी भी सरकार अथवा शासकीय व्यवस्था की कार्यप्रणाली का मूल्यांकन इस आधार पर किया जाता है कि वह अपने कार्यों में पारदर्शिता, आम जन के लिहाज से सुगमता और जनता से संवाद स्थापित करने की दिशा में किस ढंग से प्रयास कर रही है। शासकीय तंत्र की कार्यप्रणाली में लोकतांत्रिक मूल्यों के स्थायित्व के लिए पारदर्शिता, सुगमता और जनसंवाद, तीनों का स्थापन एक अनिवार्य शर्त की तरह है।