एम्स

मोदी की नीतियों से बदल रही स्वास्थ्य क्षेत्र की तस्वीर

2014 में प्रधानमंत्री बनते ही नरेंद्र मोदी ने देश का स्‍वास्‍थ्‍य ढांचा सुधारने का बीड़ा उठाया। गौरतलब है कि देश में डॉक्‍टरों की भारी कमी है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार देश में इस समय 1953 लोगों पर एक डॉक्‍टर है जबकि 1000 लोगों पर एक डॉक्‍टर होना चाहिए। मोदी सरकार ने 2027 तक देश में 1000 लोगों पर एक डॉक्‍टर उपलब्‍ध

तमिलनाडु के विकास में जुटी मोदी सरकार

दक्षिण की सियासत पर नजर डालें तो सबसे पहले राजनीतिक मानचित्र पर तमिलनाडु का चित्र उभरकर आता है। यहाँ की राजनीति की ख़ासियत है कि अधिकतर समय यहाँ सिनेमा से सियासत में आए लोग ही सत्ता में रहें हैं। लेकिन जयललिता की मृत्यु के पश्चात् सियासी घमासान से राज्य का विकास बाधित हुआ है।

बदलेगी पूर्वांचल की तस्वीर, मोदी सरकार ने निभाया वादा

केन्द्र सरकार की विकासवादी सोच का ही नतीजा है कि विगत कई दशक से बेरोजगारी, बुनियादी सुविधाओं और राजनीतिक दुराग्रह की मार झेल रहे पूर्वांचल को वर्षों से बंद पड़े खाद कारखाना और एम्स के रूप में उम्मीदों की एक नई उपहार मिलने वाला है। इस योजना का सीधा लाभ पूर्वांचल के दस जिलों को होगा।