नानाजी देशमुख

राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख जिन्होंने ग्रामीण विकास व स्वावलंबन का आदर्श मॉडल प्रस्तुत किया

राष्ट्र के उत्थान के लिए अपने जीवन को समर्पित करने वालों की चर्चा होते ही एक नाम हमारे सामने सबसे पहले आता है, वह है भारत रत्न राष्ट्र ऋषि, विराट पुरुष नाना जी देखमुख का। नानाजी देशमुख आज भी प्रसांगिक हैं, तो उसका सबसे बड़ा कारण उनका सामाजिक जीवन में नैतिकता और राष्ट्र सेवा के लिए संकल्पबद्ध होकर कठिन परिश्रम करना है।

संघ के वो राष्ट्र-हितैषी कार्य जिनकी बहुत कम चर्चा होती है !

वामपंथी विचारधारा के बुद्धिजीवियों और इसके पोषक कांग्रेस आदि राजनीतिक दलों ने अपने संकीर्ण स्वार्थों के कारण हमेशा इस देश के सबसे हितैषी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के खिलाफ अनर्गल आरोप गढ़े हैं। कांग्रेस ने तो संघ पर भगवा आतंकी संगठन होने का भी शिगूफा छोड़ा था। उसे कभी फासीवादी संगठन कहा गया तो कभी उस पर धार्मिक आधार पर देश को बांटने का आरोप लगाया गया। कांग्रेस की इस