योग दिवस

पराजय से सबक लेना कब शुरू करेंगे, राहुल गांधी?

गुरुवार को संसद का संयुक्‍त सत्र था। इसमें महत्‍वपूर्ण बात राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद का अभिभाषण था। इसमें उन्‍हें संसद के दोनों लोकसभा एवं राज्‍यसभा के सत्रों को संबोधित करते हुए पिछली सरकार के कार्यों का उल्‍लेख करना था। सब कुछ तय कार्यक्रम के अनुसार चल रहा था। राष्‍ट्रपति अपना अभिभाषण शुरू कर चुके थे कि तभी कुछ अप्रत्‍याशित सा हुआ।

आज लोगों की जो जीवन-शैली है, उसमें योग का महत्व और बढ़ जाता है !

योग न केवल शारीरिक स्वास्थ्य में काफ़ी मददगार है, बल्कि मानसिक शांति का भी बहुत शानदार ज़रिया है। आज जबकि अधिकाधिक लोग मानसिक रूप से अशांति के दौर में हैं, ज़िंदगी की आपाधापी में मानसिक शांति खो चुके हैं; ऐसे में योग और प्राणायाम इनसे निजात दिलाने का एक बेहतरीन साधन है। मन की एकाग्रता बहुत ज़रूरी है और योग के माध्यम से हम अपने मन को