सरदार पटेल

‘कांग्रेस पटेल को लेकर मोदी सरकार पर जितने हमले करेगी, उसकी नीयत पर उतने ही सवाल उठेंगे’

गुजरात में लौह पुरुष सरदार पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा के अनावरण के साथ ही देश का इतिहास एक बार फिर से गौरवान्वित हुआ है। सरदार के कृतित्व और यशोगाथा को और अधिक प्रकाशवान बनाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है।

कांग्रेस द्वारा उपेक्षित इतिहास के असल नायकों का सम्मान

गत 21 अक्टूबर की तारीख इतिहास में दर्ज हो चुकी है, जब दिल्ली का लाल किला स्वतंत्रता दिवस से इतर किसी कार्यक्रम में प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रध्वज फहराए जाने की ऐतिहासिक घटना का साक्षी बना। स्वाधीनता संग्राम के सशक्त सेनानी और देश के अमर सपूत नेताजी सुभाष चन्द्र बोस द्वारा 21 अक्टूबर, 1943 को सिंगापुर में स्थापित ‘आजाद हिंद सरकार’ की पचहत्तरवीं

स्वतंत्र भारत की पहली राजनीतिक चूक थी पटेल की बजाय नेहरू का प्रधानमंत्री बनना!

आज देश 70वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। लेकिन देश में यह पुरानी बहस चलती रहती है कि देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु के स्थान पर अगर सरदार बल्लभ भाई पटेल प्रधानमंत्री बने होते तो आज देश की तस्वीर क्या होती? बड़ी संख्या में लोगों की ऐसी धारणा है कि अगर ऐसा हुआ होता तो न तो आज कश्मीर समस्या रहती और न ही तब चीन द्वारा भारत पर आक्रमण की जुर्रत की जाती।

संघ बनाम गांधी हत्या: हर आरोप निकले झूठे, बेदाग़ साबित हुआ संघ

राहुल गांधी पर सर्वोच्च न्यायलय के आदेश के बहाने संघ और गांधी हत्या की बहस एकबार फिर चल पड़ी है। हालांकि अदालत के आदेश के बाद एकबार और यह साबित हुआ है कि राजनीतिक और वैचारिक षड्यंत्र के तहत ही गांधी हत्या के मामले में आरएसएस को घसीटा गया था।