योगी सरकार

यूपी : उपलब्धियों के आधार पर आशीर्वाद की आकांक्षा

तथ्यों से स्पष्ट है कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार राज्य के विकास और चाक-चौबंद कानून व्यवस्था के लिए प्रतिबद्धतापूर्वक काम कर रही है।

योगी सरकार की उपलब्धियों से बौखलाहट में विपक्ष

योगी ने कोरोना में भी उत्‍तर प्रदेश को एक आदर्श राज्‍य के रूप में स्‍थापित किया एवं कुशल आपदा प्रबंधन के चलते अन्‍य राज्‍यों के लिए भी मिसाल कायम की। इससे विपक्ष बौखलाया हुआ है।

योगी सरकार के उपलब्धियों भरे शानदार चार साल

योगी आदित्यनाथ का यह दावा सही ही लगता है कि सपा, बसपा व कांग्रेस की सरकारों की तुलना में भाजपा सरकार के चार वर्ष भारी है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को पूरे हुए पांच साल, करोड़ों किसानों को मिला लाभ

फसल बीमा योजना ने देश में किसानों के हितों को सुरक्षित किया है। इस योजना के कारण किसान विभिन्न कारणों से फसल के खराब होने के बाद की संकटपूर्ण स्थिति से मुक्त हुआ है।

लव जिहाद के खिलाफ राज्य सरकारों के कानून लाने से बिलबिलाया सेक्युलर गिरोह

उम्मीद कर सकते हैं कि अब लव जिहाद चलाने वाले अपराधी सींखचों के पीछे नज़र आएंगे और इस बुराई का इसी तरह क्रमिक रूप से उन्‍मूलन हो जाएगा।

हाथरस प्रकरण के बहाने रची गयी दंगों की साज़िश के खुलासे से उपजते सवाल

हाथरस में हुई घटनाओं के संदर्भ में जाँच एजेंसियों के खुलासे ने भी इसकी पुष्टि कर दी है। जो तथ्य निकलकर सामने आए हैं, वे चौंकाने वाले हैं।

कुशीनगर एयरपोर्ट : दो माह में साकार होगा दो दशक पुराना सपना

कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित नगरी है। यह भारत सहित करीब दो दर्जन देश के करोड़ों लोगों की आस्था का केंद्र है। केंद्र व उत्तर प्रदेश की वर्तमान सरकारें तीर्थाटन व पर्यटन पर विशेष ध्यान दे रही हैं।

यूपी : योगी राज में एक-एक कर ध्‍वस्‍त हो रहा अपराधियों का आर्थिक साम्राज्य

अपराध मुक्‍त राज्‍य के वादे के तहत योगी सरकार ने अपराध और अपराधियों के खिलाफ एक और मोर्चा खोल दिया है, जिसमें उसने अब अपराधियों की पाप की कमाई का हिसाब-किताब शुरू कर दिया है।

क़ानून व्यवस्था के मामले में योगी सरकार के मॉडल से अन्य राज्यों को लेनी चाहिए प्रेरणा

योगी सरकार के आने के बाद से ही यूपी अपनी क़ानून-व्यवस्था के लिए चर्चा में बना रहा है। राज्‍य की आंतरिक सुरक्षा को लेकर योगी सरकार जिस तरह सजग है, इसका अंदाज इसी से लगाया जा सकता है कि यहां के नामी गैंगस्टर और गुंडे जान बचाने के लिए दर-ब-दर छिपते फिर रहे हैं।

श्रमिक हितों के लिए ‘आपदा काल’ में भी मोदी सरकार का कामकाज ‘आदर्श’ रहा है

सिर्फ विपक्ष ही नहीं, मीडिया के एक ख़ास धड़े ने भी पत्रकारिता के बुनियादी सिद्धांतों की कब्र खोदते हुए श्रमिकों के पलायन पर बेहद गैरजिम्मेदाराना रुख दिखाया।