कामकाज

ई-रुपी से वित्तीय जीवन होगा आसान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अगस्त 2021 को ई-वाउचर आधारित डिजिटल भुगतान प्रणाली  ई-रुपी का आगाज किया। इससे डिजिटल भुगतान को बढ़ावा मिलने और भ्रष्टाचार पर लगाम लगने की उम्मीद है।

ई-रूपी : डिजिटल इण्डिया के सफलता भरे सफर में एक और मील का पत्‍थर

ई-रूपी वाउचर के जरिये सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के वित्तीय प्रबंधन में और अधिक पारदर्शिता आएगी, भ्रष्टाचार के रास्ते बंद होंगे और जनता को सहज-सुगम ढंग से योजनाओं का लाभ मिल सकेगा।

ये आंकड़े बताते हैं कि कोरोना संकट के बावजूद मजबूत स्थिति में है भारतीय अर्थव्यवस्था

सरकार द्वारा उठाये गये सुधारात्मक कदमों से अर्थव्यवस्था में तेजी दिख रही है जिसके आगामी महीनों में और भी बेहतर होने की उम्मीद है।

केंद्र और योगी सरकार के प्रयासों से तेजी से विकसित हो रही अयोध्या

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने अयोध्या के विकास पर विशेष ध्यान दिया है। इसको स्मार्ट व विश्व स्तरीय नगर बनाने का कार्य प्रगति पर है।

कोरोना संकट के बावजूद तेजी से हर घर में नल से जल पहुंचाने में कामयाब हो रही मोदी सरकार

आजादी के बाद 72 वर्षों में जहां प्रतिदिन 1229 ग्रामीण घरों में नल से जल का कनेक्‍शन दिया गया वहीं मोदी सरकार आज हर रोज दो लाख से अधिक ग्रामीण घरों में नल से जल का कनेक्‍शन दे रही है।

भारतीय अर्थव्यवस्था की मजबूती में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे वित्तीय संस्थान

सरकार की नीतियों के क्रियान्वयन में वित्तीय संस्थानों की सकारात्मक भूमिका की वजह से कोरोना काल में भी भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार आ रहा है।

थोक एवं खुदरा व्यापारियों को एमएसएमई के दायरे में लाना केंद्र सरकार की एक बड़ी सौगात

खुदरा एवं थोक व्यापारियों को मजबूत करते हुए केंद्र सरकार एमएसएमई क्षेत्र को आर्थिक विकास के इंजन के रूप में विकसित करने हेतु कटिबद्ध है।

आर्थिक विकास की दिशा में मील का पत्थर साबित हो रहा है जीएसटी

यह भारत के आर्थिक परिदृश्य में मील का पत्थर साबित हुआ है। जीएसटी ने करों की संख्या, अनुपालन बोझ और आम आदमी पर समग्र कर बोझ में कमी की है।

राहत पैकेज से मिलेगी अर्थव्यवस्था को मजबूती

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना महामारी से प्रभावित आमजन और कारोबारियों को राहत देने के लिए 28 जून को अनेक घोषणाएँ की, जिन्हें अमल में लाने में बैंकों की अहम् भूमिका होगी।

कोरोना के विरुद्ध मजबूती से लड़ रहा भारत

देश में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए टीका जैसा हथियार अचानक से विकसित नहीं हो गया। इसे विकसित करने के लिए सरकार शुरू से ही योजनाबद्ध तरीके से काम कर रही थी।