नजरिया

आईएनएस विक्रांत : आत्मनिर्भर भारत की शक्ति और सामर्थ्य का प्रतीक

आईएनएस विक्रांत स्वदेशी सामर्थ्य, स्वदेशी संसाधन और स्वदेशी कौशल का प्रतीक है। खास बात यह है कि इसके एयरबेस में जो स्टील लगा है, वो स्टील भी स्वदेशी है।

एक ऐसा स्मारक जिसने स्वामी विवेकानंद के विचारों को जीवंत रखा!

विवेकानंद शिला स्मारक ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ का एक जीता जागता उदाहरण है, जिसके निर्माण के दौरान अर्थिक दिक्कत पड़ने पर पूरे राष्ट्र ने आर्थिक योगदान दिया।

वैश्विक नेता के रूप में स्थापित होते मोदी

राष्ट्रीय स्तर पर किए जा रहे मोदी के कार्यों को तो दुनिया देख-परख रही ही है, बीते आठ सालों में विश्व पटल पर भी मोदी का नेतृत्व-कौशल उभरकर सामने आया है।

मोदी सरकार के प्रयासों से शिक्षा क्षेत्र में विश्वगुरु बनने की ओर अग्रसर भारत

आज केंद्र सरकार शिक्षा क्षेत्र के लिए न केवल नीतियां बना रही है अपितु इन नीतियों का क्रियान्वयन सफलता पूर्वक हो, इसका भी पूरा पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

मोदी सरकार के प्रयासों से खत्म हो रहा है नक्सलवाद

पिछले तीन साल में सुरक्षा बलों के 40 नए कैंप खोले गए हैं और 15 खोले जाने हैं। नक्सल प्रभावित इलाकों में मोबाइल टावरों की संख्या बढ़ाई गई है।

अपनी जड़ों से जुड़कर मानसिक दासता से मुक्त होगा भारत!

भारत अपनी जड़ों से जितना अधिक जुड़ेगा, उतना ही उसमें आत्मगौरव और आत्मविश्वास की भावना का विकास होगा तथा मानसिक दासता से मुक्ति का मार्ग भी प्रशस्त होगा।

पर्यटन उद्योग : सांस्कृतिक स्थलों के विकास से पैदा होते रोजगार के अवसर

विभिन्न पर्यटन सर्किटों को विकसित करने के पीछे भारत की जड़ें तलाशने के साथ ही देश में धार्मिक पर्यटन को पंख देने की मंशा भी काम कर रही है।

वंशवादी राजनीति से मुक्ति की दिशा में बढ़ रहा है देश

प्रधानमंत्री मोदी विकास की राजनीति के जरिए लोकतंत्र के सबसे बड़े दुश्मन यानी वंशवादी राजनीति को ठिकाने लगाने में जुटे हैं और उन्हें सफलता भी मिल रही है।

जीएसटी: विपक्ष का दोहरा चरित्र

यह मानना सिरे से गलत है कि जीएसटी दरों में किसी प्रकार के निर्णय केंद्र सरकार द्वारा लिए जाते हैं। इसमें राज्यों की पर्याप्त भूमिका और हिस्सेदारी है।

मोदी सरकार के प्रयासों से हासिल हुआ 200 करोड़ टीकाकरण का लक्ष्य, विपक्ष की बोलती बंद

टीकाकरण की यह उपलब्धि सरकार की एक लंबी तैयारी और कड़ी मेहनत से हासिल हुई है। कोरोना महामारी की शुरुआत के तत्काल बाद ही इसके लिए टास्क फोर्स बना दी गई थी।